Who Did Patrick's Homework Hindi Translation

 Hindi Translation Of The Story "Who Did Patrick's Homework ?"

Patrick never..................................homework.

पैट्रिक कभी भी होमवर्क नहीं करता था। "बहुत उबाने वाला, नीरस काम है," वह कहा करता था। वह बेसबॉल तथा बास्केटबॉल खेला करता था और पढ़ने की बजाए वीडियो गेम का आनंद लेता रहता था। 

उसके शिक्षकों ने उसे बोला, "पैट्रिक ! अपना होमवर्क पूरा करते रहो अन्यथा तुम कुछ भी सीख नहीं पाओगे। " और यह सच है कि कभी -कभी उसे लगता था कि वह निरा अज्ञानी या मूढ़ है। पर वह कुछ भी करने में असमर्थ था। उसे तो होमवर्क से नफरत थी। 

Then one day............................you that."

फिर एक दिन उसने अपनी बिल्ली को एक छोटी -सी गुड़िया से खेलते पाया। उसने गुड़िया छीन ली। वह यह देखकर हैरान रह गया कि यह गुड़िया नहीं वरन एक छोटे कद का बौना व्यक्ति है। उस बौने ने एक छोटी ऊनी कमीज तथा पुराने फैशन की छोटी पतलून पहन रखी थी तथा उसके सर पर एक ऊँचा लम्बा -सा हैट था जैसा जादूगरनी पहने रहती है। वह चीखकर बोला, "मुझे बचा लो ! मुझे इस बिल्ली के हवाले मत कर देना। इसके बदले में मैं तुम्हारी भी एक मांग पूरी कर दूँगा, मेरा वादा रहा। "

Patrick couldn't........................do it."

पैट्रिक को अपनी खुशकिस्मती पर विश्वास नहीं हो पाया। अब तो उसके पास अपनी समस्याओं का हल सुलभ हो गया था। इसलिए वह बोला, "तुम्हे मेरा सारा होमवर्क इस सत्र के अंत तक अर्थात 35 दिनों तक करना होगा। यदि तुम यह काम अच्छी तरह कर दोगे तो मुझे 'ए' ग्रेड भी मिल सकता है। "

बौने का चेहरा टोकरी में पड़े झाड़न की भाँति सिकुड़न युक्त हो गया। उसने अपनी टांगे फटकारीं तथा अपनी मुट्ठियाँ भींच लीं , उसने मुँह बनाया तथा अपने होंठों को क्रोध और अरुचि से सिकोड़ा। "ओह, मैं तो फँस गया। पर मैं तुम्हारी माँग पूरी करूँगा। "

And true to...........................each letter."

और अपने वचन का पक्का रहकर उस बौने ने पैट्रिक का गृहकार्य करना शुरू कर दिया। उसके इस काम में एक कठिनाई सामने आई। उसे सदा समझ में नहीं आता था कि क्या काम किस प्रकार करे, उसे मदद की जरूरत होती थी। "मेरी मदद करो ! मदद करो। " वह कहता रहता था। और पैट्रिक को मदद करनी पड़ती थी हर प्रकार से। "मुझे इस शब्द का अर्थ नहीं पता," बौना पैट्रिक का होमवर्क पढ़ते समय चीख पड़ता था। "मुझे शब्दकोश लाकर दो। नहीं, इससे भी बेहतर यह होगा कि तुम्हीं इस शब्द को खोज निकालो एवं उसके एक -एक वर्ण को जोर से बोलो। "

When it came.......................door.

जब गणित का काम शुरू किया, तो पैट्रिक की किस्मत ने धोखा दे दिया। "ये पहाड़े क्या होते है ?" बौना चीखा। "हम परीलोक के वासियों को इसकी कभी जरूरत नहीं पड़ती। और ये जोड़, घटाना, भाग तथा बटे ? यहाँ मेरी बगल में बैठ जाओ और तुम्हे मुझे गाइड करना ही होगा। "

परीलोक वासियों को मानव इतिहास की कोई जानकारी नहीं होती, उनके लिए यह सब एक रहस्य है। इसलिए बौना जो पहले ही चीख -पुकार करता रहता था, अब और ऊँचे स्वर में बोला, "पुस्तकालय जाओ, मुझे पुस्तकों की जरुरत है और तुम उन्हें  पढ़ने में भी मेरी मदद कर सकते हो। "

वास्तव में हर दिन तथा अनेक प्रकार से वह बौना तंग करता रहा। पैट्रिक को पहले की अपेक्षा कहीं अधिक मेहनत करनी पड़ रही थी। वह रातों को देर तक जागा रहता था, उसे इतनी अधिक थकावट पहले कभी नहीं हुई थी, जब वह स्कूल जाता तो उसकी आँखें सूजी हुई तथा धुंधली होती थी। अंत में स्कूल का अंतिम दिन आ पहुंचा और बौना अब जाने के लिए आजाद था। जहाँ तक होमवर्क की बात थी, वह तो शेष नहीं रहा था, इसलिए वह चुपके से चोरी -चोरी पिछले दरवाजे से निकल गया। 

Patrick got his........................himself !

पैट्रिक को सभी विषयों में 'ए' ग्रेड मिल गया, उसके सहपाठी हैरान रह गए, उसके शिक्षक खुश हो गए तथा उन्होंने बालक की प्रशंसा की। और उसके माता -पिता ? वे तो विस्मित हो गए पैट्रिक में आये परिवर्तन को देखकर। पैट्रिक अब एक आदर्श बालक बन गया था। वह अपना कमरा स्वयं करता था, खुश रहता था, कभी अशिष्टता या अभद्रता नहीं दिखाता था , जैसे उसने एक पूर्णरूपेण नयी मनोवृति  अपना ली थी। 

देखिये ,अंत में पैट्रिक अभी भी यह सोचता था कि उसने उस बौने से अपना सारा होमवर्क करवा लिया था। पर मैं एक राज की बात आपको बताऊंगा , यह हमारे हुए आपके बीच में ही रहे। बौने ने नहीं , पैट्रिक ने स्वयं सारा होमवर्क किया था।  

Previous Post Next Post